The fire can go wild!

You try and save me from a fire I started, thats how sexist you are. 👥

तुम्हें आदत नहीं है सच देखने और सुनने की,
आँखें बंद कर लो।


कहोगे, छोटे उसके कपड़े थे, देख लिया तो,
तमाशा होगा अगर उसने बुरखा फेंक दीया तो।
तुम्हें तो लत लगी है, उसकी गलतियाँ गिनने की,
आदत जो नहीं है तुम्हें सच देखने और सुनने की,
आँखें बंद कर लो।


लड़की को हद में रहने चाहिए, यही तुम सिखाओगे,
लड़कियाँ खाना बनाएंगी, तो ही तो तुम खाओगे।
तुम्हें तो समस्या है, उसकी लगाम कसने की,
आखिर आदत ही तो नहीं है तुम्हें सच देखने और सुनने की,
आँखें बंद कर लो।


लड़की तो सिर्फ खाना बना सकती है, यही तुमने जाना है,
लड़को को उकसा कर, खुद बेचारी बनती है, यह तुमने माना है,
तुम्हें तो बीमारी है, उसकी बात पर उंगली करने की,
बेचारे, आदत ही तो नहीं है तुम्हें सच देखने और सुनने की,
तो बस,
हाथ पर हाथ धर लो,
कानों में रूई भर लो,
झूठ के लिए, सच से लड़ लो,
और आँखें बंद कर लो।

~‌ऊर्जा

Published by oorjajain

The darkest barrier on your soul is your minds. ~Oorja Follow me on wattpad@oorjain & on instagram @epeolatry_24

One thought on “The fire can go wild!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

Create your website with WordPress.com
Get started
%d bloggers like this: